संवाददाता : राहुल कुमार , नमस्कार भारत

किसान आंदोलन का आज पांचवा दिन है। प्रदर्शनकारी किसानों का आंदोलन आज भी जारी है, जिनमें से ज्यादातर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से हैं। किसानों का ‘दिल्ली चलो’ मार्च अब भी जारी है।

मीडिया कर्मी से बात करने के दौरान क्या बोले किसान

आप को बता दे की मीडिया कर्मी से बात करते दौरान संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि वह किसानों के बाद आने वाले दिनों में आंदोलन तेज किया जायेगा। बता दे ट्रेड यूनियनों और अन्य लोगो के साथ समूह ने शुक्रवार को ग्रामीण भारत बंद मनाया।

देश में प्रदर्शनकारी किसानों पर हो रहे ‘अत्याचार’ पर चर्चा के लिए शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक ‘महापंचायत’ का आयोजन किया जाएगा। किसानों के आंदोलन के वजह से सरकार अंबाला , कुरुक्षेत्र, कैथल, जिंदा, हिसार , फतेहाबाद और सिरसा समेत हरियाणा के सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद करवा दिया गया है ।

13 फरवरी की सुबह पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों ने अपनी मांगों पर जोर देने के लिए ‘दिल्ली चलो’ मार्च शुरू किया। किसानों को रोकने के लिए हरियाणा-पंजाब सीमा और राष्ट्रीय राजधानी में एंट्री पॉइंट्स पर भारी बैरिकेडिंग के गई है।

हालांकि, उनमें से अधिकांश किसानों को हरियाणा के साथ पंजाब की सीमा पर शंभू और खनौरी बिंदुओं पर सुरक्षा कर्मियों द्वारा रोक दिया गया था। तब से प्रदर्शनकारी दो सीमा बिंदुओं पर डटे हुए हैं।

संयुक्त किसान मोर्चा और किसान मजदूर मोर्चा सहित 200 से अधिक किसान संघ अपनी मांगें स्वीकार करने के लिए केंद्र पर दबाव बनाने के लिए मार्च में हिस्सा ले रहे हैं।

एमएसपी की कानूनी गारंटी के अलावा, किसान स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने, किसानों और खेत मजदूरों के लिए पेंशन, कृषि ऋण माफी, बिजली दरों में कोई बढ़ोतरी नहीं, पुलिस मामलों को वापस लेने और 2021 के पीड़ितों के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं। किसानों की मांग में, लखीमपुर खीरी हिंसा, भूमि अधिग्रहण अधिनियम, 2013 की बहाली, और 2020-21 में पिछले आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिवारों को मुआवजा भी शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *