Lok sabha election

संवाददाता: कुमार विवेक, नमस्कार भारत

Loksabha Election: लोकसभा चुनाव के 5 वे चरण का मतदान सोमवार, 20 मई को होना है। मतदान से पहले उत्तर प्रदेश के कौशांबी और प्रतापगढ़ में राजनीतिक हलचल बढ़ी हुई है। कुंडा विधायक और जनसत्ता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष  राजा भैया ( रघुराज प्रताप सिंह)  के ऊपर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं। राजा भैया की इन जगहों पर अच्छी पकड़ है।

इन क्षेत्रों में अपना वोट मजबूत करने के लिए बीजेपी, सपा, बसपा तीनों दलों के नेता राजा भैया को रिझाने में जुटे थे। लेकिन राजा भैया ने इस लोकसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को साथ देने से इनकार कर दिया है। इंडिया टुडे को दिए एक इंटरव्यू में राजा भैया ने लोकसभा चुनाव से जुड़े अहम मुद्दों पर बात की।

राजा भैया किसे देंगे अपना समर्थन

लोकसभा में राजा भैया किसको समर्थन दें रहे ये पूछने पर उन्होंने कहा, “कुछ दिन पहले मैं मंच से जो कह दिया वो फाइनल है क्योंकि कार्यकर्ताओं से राय सलाह करके ही फैसला हुआ है। राजनीति में आम तौर पर ऐसे निर्णय नहीं होते हैं, किसी को समर्थन देना है या किसी का विरोध करना, शायद आप लोग इसीलिए चौंके भी होंगे लेकिन इस बार यही निर्णय हुआ है।”

यूपी में किसका पलड़ा भारी

जब उनसे पूछा गया कि उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर उन्हें किसका पलड़ा भारी लग रहा है उन्होंने कहा, “चुनाव के रिजल्ट क्या आएंगे ये तो नहीं पता। पर इस चुनाव में मैं ये देख पा रहा हूं कि उत्तर प्रदेश के कई सीटों पर लड़ाई है। उम्मीदवारों  को लेकर जनता में काफी नाराजगी भी देखी जा रही है। मामला एक तरफा नहीं लग रहा है।” हालांकि राजा भैया ने खुलकर सीटों या नेताओं के नाम लेने से इनकार कर दिया।

यूपी की सभी सीटों का किसी एक गठबंधन के पक्ष में जाने के सवाल पर राजा भैया ने कहा, “उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटें किसी भी एक गठबंधन के लिए जीतना नामुमकिन है। ऐसा कभी हो नहीं सकता। इस बार लोग प्रत्याशी को देखकर भी वोट कर रहे हैं। तो कई सीटों पर मामला फंसा हुआ है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *