संवाददाता: सिद्धार्थ कुंवर,  नमस्कार भारत

Sushil Modi News: बिहार में आगामी लोकसभा चुनाव के पहले पक्ष-विपक्ष के बीच ज़ुबानी जंग जारी है। इसी क्रम में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पटना में राजद सुप्रीमो पर ज़ोरदार निशाना साधा। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि तेजस्वी यादव उपमुख्यमंत्री रहे, इसके साथ ही उनके पास 5 विभागों की ज़िम्मेदारी भी दी थी। इन सबके बावजूद तेजस्वी यादव 90 फीसद कामों में फेल रहे।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव फिर भी तेजस्वी यादव को बिहार का सीएम बनाने के लिए जोड़ तोड़ की सियासत करते रहे। तेजस्वी यादव का सत्ता से हटने के बाद किया आकलन सही है कि वह सिर्फ 10 फ़ीसद ही कर पाए।

अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए गठबंधन-धर्म पर दोष लगाने की ज़रूरत नहीं है, बल्कि तेजस्वी यादव की क्षमता ही इतनी सी है। राजद के तीन मंत्रियों को पिछली सरकार में हटाना पड़ा था। सुधाकर सिंह किसके इशारे पर सीएम के ख़िलाफ़ बयानबाज़ी कर रहे थे।

तेजस्वी यादव बताएं कि वह इस तरह की बयानबाज़ी से मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ गठबंधन-धर्म की अवहेलना क्यों कर रहे थे? राजद कोटे के चंद्रशेखर शिक्षा मंत्री बने और विभागीय सचिव से लड़ते रहे। 4 महीने दफ्तर का मुंह तक नहीं देखा।

रामचरित मानस पर विवादित टिप्पणी कर ज़हर घोलते रहे, क्या यही गठबंधन-धर्म तेजस्वी यादव को काम करने से रोक रहा था? तेजस्वी यादव बताएं कि 1.22 लाख शिक्षकों को नौकरी देने में उनके दल (राजद) और शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर की क्या भुमिका थी?

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि सीएम के नीतिगत फ़ैसले से राज्य सरकार की नियुक्तियां होती हैं। तेजस्वी यादव इन कामों का पूरा श्रेय खुद ही लूटना चाह रहे थे। तेजस्वी यादव ने स्वास्थ्य सहित 5 विभागों के मंत्री रहने पर अपने विभागों में कितनी वैकेंसी भरी? कितने लोगों को 17 महीनों के दौरान नौकरी दी गई, विभाग के ऐतबार से विवरण जारी करें।

गठबंधन धर्म की सीमा की वजह से तेजस्वी यादव बेहतर काम नहीं कर पाए, तो वह बताएं कि 15 साल के शासन में उनके माता-पिता भी विकास का कोई काम क्यों नहीं कर पाए? जनता के लिए 10 फीसद काम और परिवार की सम्पत्ति बढाने के लिए 90 फीसद काम करने वाल राजनीतिक दल राजद है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *